Winter Status in Hindi

अपना समझो या बेगाना, हमारा आपका हैं रिश्ता पुराना.


मौसम हो ठण्ड का और हो साथ तेरा जहां। फिर डर किस बात का कौन बीमार होता है यहां.


फिर भी यह बुखार सबको  आप जैसा प्यारा लगता है.


अक्सर सूखे हुए होंठों से ही होती हैं मीठी बातें..प्यास बुझ जाये तो  अल्फ़ाज़ और इंसान दोनों बदल जाया करते हैं.


नज़रिया देखने का हर किसी का इस जहाँ में जुदा जुदा होता है। नज़र में किसी के अगर बुरा है वो तो किसी की नज़र में तो अच्छा है।


सुबह सुबह आकर सोये हुए को जगाने के लिये उसकी रजाई खींच लेने को महापाप की श्रेणी में रखा जायेगा.


अगर इस समय कोई सुबह सुबह किसी पर ठंडा पानी डाल दे, तो वो घटना भी आतंकवादी हमले के अंतर्गत माना जायेगा.


अर्ज किया है हुआ अपहरण धूप का,पूरी जनता मौन, कोहरा थानेदार है,रपट लिखाए कौन.


सर्दी ने अब पकड बनाई, अगल बगल से जकड रजाई, धुंध में सूरज नहीं है दिखने वाला, घडी की घंटी से उठ जा भाई.


मत ढूंढो मुझे इस दुनिया की तन्हाई में, ठण्ड बहुत है, मैं यही हूँ, अपनी रजाई में.


अपना समझो या बेगाना, हमारा आपका हैं रिश्ता पुराना,इसलिए मेरा फ़र्ज हैं आपको बताना,ठंड आ गयी हैं,कृपया रोज मत नहाना.


ना मुस्कुराने को जी चाहता हैं, ना कुछ खाने-पीने को जी चाहता हैं,अब ठंड बर्दास्त नही होती,सब कुछ छोडकर रजाई में घुस जाने को जी चाहता हैं.


बहुत ही सर्द है अब के दयार-ए-शौक़ का मौसम,चलो गुज़रे दिनों की राख में चिंगारियाँ ढूँडें.


ऐ सर्दी इतना न इतरा अगर हिम्मत है तो जून में आ.


कितना दर्द हैं दिल में दिखाया नही जाता,गंभीर हैं किस्सा सुनाया नही जाता,