Waqt Shayari in Hindi

Waqt Shayari in Hindi: We Give you Lots of waqt shayari collection in Hindi, 2 Line Waqt Shayari for Life, Friends, and the one you loves. Waqt shayari by ghalib is among the Very important aspect to share who don’t have time and they are busy in their busy life. Updatepedia offers wide choice of waqt shayri two line, वक़्त पर शायरी, bure waqt ki shayari in Hindi. Further Down is among the better shayari Collection for waqt sad shayari Hindi for love, girlfriend, Boyfriend, GF/BF and more those who are looking for Waqt Shayari Collection. Waqt pe shayari and Sad Waqt Shayari begin if you have busy schedule or if your friends or love is busy in their own life problem that you can easily send our Waqt Shayari to them. Our waqt par sher shayari featuring to friends, GF/BF, love and friends. Dedicating our 2 line Sad Waqt shayari to a narration or guzra waqt shayari for Him/Her. Best collection of the वक़्त पर शायरी we promote on Facebook or whatsapp when it comes to we feel busy in our life because everyone is searching Waqt Shayari in their busy life.

Waqt Shayari in Hindi – वक़्त पर शायरी

waqt shayari ghalib waqt shayari by javed akhtar bura waqt shayari waqt shayari images waqt sad shayari guzra waqt shayari waqt pe shayari bure waqt ki shayari in hindi bura waqt shayari waqt pe shayari bure waqt ki shayari in hindi waqt bura hai shayri waqt shayari ghalib waqt shayari by javed akhtar waqt shayri two line waqt nahi hai shayari waqt shayari 2 lines वक़्त पर शायरी waqt par sher bura time shayari waqt shayari collection

One Line Waqt Status for Whatsapp

ऐ रहबर-ए-कामिल चलने को तैयार तो हुँ पर याद रहे उस वक़्त मुझे भटका देना जब सामने मंज़िल आ जाए.


ये फैसला तो शायद वक़्त भी न कर सके सच कौन बोलता है अदाकार कौन है.


इस क़दर प्यार से ऐ जान-ए-जहाँ रक्खा है, दिल के रुख़सार पे इस वक़्त तेरी याद् ने हाथ.


ज़िंदगी यूँही बहुत कम है मोहब्बत के लिए रूठ कर वक़्त गँवाने की ज़रूरत क्या है.


2 Line Waqt Shayari in Hindi Fonts

उम्मीद वक्त का सबसे बड़ा सहारा है, गर हौसला है तो हर मौज में किनारा है !! रात तो वक़्त की पाबंद है ढल जाएगी, देखना ये है चराग़ों का सफ़र कितना है.


वक़्त का तकाज़ा है के फिर महफ़िल सजे फिर उनकी निग़ाह हम पे पड़े, फिर उनकी बात चले। वक़्त और हालात दोनी ही बदल जाते हैं, मँज़िलें रह जाती हैं, लोग बिछड़ जाते हैं.


जिंदगी एक हसींन ख्वाब है माना, हर हसींन ख्वाब को ताबीर नहीं मिलती टूट के वक्त के साहिल पे बिखर जाते है, कुछ रिश्ते जिन्हें जंजीर नहीं मिलती.


ऐ रहबर-ए-कामिल चलने को तैयार तो हूँ पर याद रहे उस वक़्त मुझे भटका देना जब सामने मंज़िल आ जाए.


वक़्त पर शायरी in Hindi Fonts for Friends

कुछ नाकामयाब रिश्तों में पैसे नहीं.. बहुत सारी उम्मीदें और वक्त खर्च हो जाते हैं.


मेरी ना रात कटती है और ना ज़िन्दगी वो शख्स मेरे वक़्त को इतना धीमा कर गया.


आँखोँ के परदे भी नम हो गए बातोँ के सिलसिले भी कम हो गए पता नही गलती किसकी है वक्त बुरा है या बुरे हम हो गए.


वक़्त रहता नही कहीं टिककर इसकी आदत भी आदमी सी है.


Two Line Waqt Shayari in English Fonts

Jaanu Main Uski Har Ek Baat Aaj Bhi Yaad Aati Hai Wo Pehli Mulaqat Gujre Wo Lamhe Wo Din Aur Raat Yahi To Hai Waqt Ki Mujh Ko Saugaat.


Kuchh Is Tarah Se Sauda Kiya Mujhse Mere Waqt Ne Tazurbe Dekar Wo Mujh Se Meri Nadaniyan Le Gaya.


Paison ki Daud Me Aise Daude, Ki Thakne ka Bhi Waqt Nahi,Paraye Ehsason Ki Kya Kadr Karein, Jab Apane Sapno Ke Liye Hi Waqt Nahi.


Waqt Ki Dhoop Ho Ya Baarish, Kuch Kadmon Ke Nishan Kabhi Nahi Khote,Jinhe Yaad Karke Khush Hoti Hai Aankhen, Wo Log Duur Hokar Bhi Duur Nahi Hote.


Two Line Waqt Shayari in Hindi Fonts

अपने भी अजनबी हो जाते हैं वक़्त के साथ, कुछ अजनबी भी अपने हो जाते हैं वक़्त के साथ.


Tumhe Yaad Karne Wale Kum Na Hoonge, Waqt K Saath Shayad Hum Na Hoonge, Tum Kisi Ko Kitna Bhi Yaad Karo, Magar Tumhari Yaado Ke Hakdaar Sirf Hum Hoonge.


वक़्त मेरी तबाही पे हँसता रहा रंग तकदीर क्या क्या बदलती रही.


वक़्त की अदालत में हर कोई गुनहगार है, आज मुझे सजा मुकर्रर हुयी कल को तेरा इंतज़ार है.


Waqt pe shayari in Hindi Fonts

वक़्त की पाबंदी लगी है अब तो हर वक़्त, लौट आना इससे पहले के हशर की रात आजाये.


और आहिस्ता कीजिये बातें धड़कने कोई सुन रहा होगा लफ्ज़ गिरने न पाये होंठो से, वक़्त के हाथ इनको चुन लेंगे.


More Shayaris Collections:


कहने को तो सब अपने ही हैं यहाँ, पर वक़्त आने कोई कोई चेहरा नहीं दिखता.


वक़्त काटना है मुझे बस के वक़्त मेरा ना रहा, वक़्त बे वक़्त यूँ याद आता रहा किस्सा तेरा.