Mirza Ghalib Shayari in Hindi

Aage aati thi haal-e-dil pe hansi Ab Kisi baat par nahi aati.


इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’,, कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे.


यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं,, अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो.


Kab VO suntā hai kahānī merī , Aur phir VO bhī zabānī merī.


गैर ले महफ़िल में बोसे जाम के , हम रहें यूँ तश्ना-ऐ-लब पैगाम के , खत लिखेंगे गरचे मतलब कुछ न हो , हम तो आशिक़ हैं तुम्हारे नाम के , इश्क़ ने “ग़ालिब” निकम्मा कर दिया ,वरना हम भी आदमी थे काम के.


Bāzīcha-e-atfāl hai duniyā mire aage , Hotā hai shab-o-roz tamāshā mire aage.


तेरी दुआओं में असर हो तो मस्जिद को हिला के दिखा ,नहीं तो दो घूंट पी और मस्जिद को हिलता देख.


Be-ḳhudī be-sabab nahīñ ‘ġhālib’ , Kuchh to hai jis kī parda-dārī hai.


वो आए घर में हमारे, खुदा की क़ुदरत हैं!, कभी हम उमको, कभी अपने घर को देखते हैं.


Kee mire qatl ke baad us ne jafaa se tauba, Haaye us zood-pasheemaan ka pasheemaan hona.


हम वहां हैं जहां से हम को भी,, कुछ हमारी ख़बर नहीं आती.


Is saadgi pe kaun Na mar jaaye ai khuda, Ladte hain aur haath mein talwaar bhi nahi.


Kabhee nekee bhee uske jee meiN gar AA jaaye hai mujhse, JafaayeN karke apnee yaad sharma jaaye hai mujhse.