1000+ Maut Shayari in Hindi - Heart Touching Collection

Maut Shayari in Hindi

ज़िंदगी बैठी थी अपने हुस्न पे फूली हुई, मौत ने आते ही सारा रंग फीका कर दिया।


तुम समझते हो कि जीने की तलब है मुझको, मैं तो इस आस में ज़िंदा हूँ कि मरना कब है।


तू बदनाम ना हो इसलिए जी रहा हूँ मैं, वरना मरने का इरादा तो रोज होता है।


साँसों के सिलसिले को न दो ज़िंदगी का नाम, जीने के बावजूद भी मर जाते हैं कुछ लोग।


जरा चुपचाप तो बैठो कि दम आराम से निकले, इधर हम हिचकी लेते हैं उधर तुम रोने लगते हो।


अब मौत से कह दो कि नाराज़गी खत्म कर ले, वो बदल गया है जिसके लिए हम ज़िंदा थे​


मैं अब सुपुर्दे ख़ाक हूँ मुझको जलाना छोड़ दे, कब्र पर मेरी तू उसके साथ आना छोड़ दे, हो सके गर तू खुशी से अश्क पीना सीख ले, या तू आँखों में अपनी काजल लगाना छोड़ दे।


हद तो ये है कि मौत भी तकती है दूर से, उसको भी इंतजार मेरी खुदकुशी का है


जहर पीने से कहाँ मौत आती है, मर्जी खुदा की भी चाहिए मौत के लिए?


बे-मौत मर जाते है, बे-आवाज़ रोने वाले.


वफ़ा सीखनी है तो मौत से सीखो, जो एक बार अपना बना ले फिर किसीका होने नहीं देती


इश्क से बचिए जनाब, सुना है धीमी मौत है ये.


अपनी मौत भी क्या मौत होगी एक दिन यूँ ही मर जायेंगे तुम पर मरते मरते


मोहब्बत और मौत की पसन्द तो देखो यारो  एक को दिल चाहिए और दुसरे को धड़कन


उनसे बिछड़े तो मालूम हुआ मौत क्या चीज है , ज़िन्दगी वो थी जो हम उनकी महफ़िल में गुजार आए.


मोहब्बत और मौत दोनों बिन बुलाए मेहमान होते है  कब आजाए कोई नहीं जानता  लेकिन दोनों का एक ही काम है एक को दिल चाहिए दुसरी को धड़कन.


उम्र तमाम बहार की उम्मीद में गुजर गयी, बहार आई है तो पैगाम मौत का लाई है


अगर दुनिया में जीने की चाहत ना होती  तो खुदा ने मोहब्बत बनाई ना होती लोग मरने की आरज़ू ना करते  अगर मोहब्बत में बेवफाई ना होती


ना जाने मेरी मौत कैसी होगी पर ये तो तय है तेरी बेवफाई से बेहतर होगी.


वो धुंद रहे थे हमे शायद उन्हें हमारी तलाश थी, पर जहाँ वो खड़े थे वही दफ़न हमारी लाश थी.

You May Also Like