Happy Gandhi Jayanti Status in Hindi

“जो भी चाहे अपनी अंतरात्मा की आवाज़ सुन सकता है। वह सबके भीतर है ।”


“जब तक गलती करने की स्वतंत्रता ना हो तब तक स्वतंत्रता का कोई अर्थ नहीं है ।”


“मैं हिंसा का विरोध करता हूँ क्योंकि जब ऐसा लगता है, कि वो अच्छा कर रही है तब वो अच्छाई अस्थायी होती है, और वो जो बुराई करती है वो स्थायी होती है ।”


“अक्लमंद काम करने से पहले सोचता है और मूर्ख काम करने के बाद ।”


“जब भी आपका सामना किसी विरोधी से हो, उसे प्रेम से जीतें ।”


“अधभूखे राष्ट्र के पास न कोई धर्म, न कोई कला और न ही कोई संगठन हो सकता है ।”


“जीवन की गति बढाने के अलावा भी इसमें बहुत कुछ है ।”


“हो सकता है आप कभी ना जान सकें कि आपके काम का क्या परिणाम हुआ, लेकिन यदि आप कुछ करेंगे नहीं तो कोई परिणाम नहीं होगा ।”


“गुलाब को उपदेश देने की आवश्यकता नहीं होती है। वह तो केवल अपनी ख़ुशी बिखेरता है। उसकी खुशबु ही उसका संदेश है ।”


“दुनिया में ऐसे लोग हैं जो इतने भूखे हैं कि भगवान उन्हें किसी और रूप में नहीं दिख सकता सिवाय रोटी के रूप में ।”


“लम्बेलम्बे भाषणों से कही अधिक मूल्यवान है इंच भर कदम बढ़ाना ।”


“आप मुझे जंजीरों में जकड़ सकते हैं, यातना दे सकते हैं, यहाँ तक की आप इस शरीर को नष्ट कर सकते हैं, लेकिन आप कभी मेरे विचारों को कैद नहीं कर सकते ।”


“भूल करने में पाप तो है ही, परन्तु उसे छुपाने में उससे भी बड़ा पाप है ।”


“जब तक गलती करने की स्वतंत्रता ना हो तब तक स्वतंत्रता का कोई अर्थ नहीं है ।”


“प्रार्थना या भजन जीभ से नहीं ह्रदय से होता है। इसी से गूंगे, तोतले और मूढ भी प्रार्थना कर सकते है ।”


“पृथ्वी सभी मनुष्यों की ज़रुरत पूरी करने के लिए पर्याप्त संसाधन प्रदान करती है, लेकिन लालच पूरी करने के लिए नहीं ।”


“भविष्य में क्या होगा, मै यह नहीं सोचना चाहता। मुझे वर्तमान की चिंता है। ईश्वर ने मुझे आने वाले क्षणों पर कोई नियंत्रण नहीं दिया है ।”


“राष्ट्रीय व्यवहार में हिन्दी को काम में लाना देश की उन्नति के लिए आवश्यक है ।”


“मैं सभी की समानता में विश्वास रखता हूँ, सिवाय पत्रकारों और फोटोग्राफरों की ।”


“शारीरिक उपवास के साथसाथ मन का उपवास न हो तो वह दम्भपूर्ण और हानिकारक हो सकता है ।”


“प्रेम दुनिया की सबसे बड़ी शक्ति है और फिर भी हम जिसकी कल्पना कर सकते हैं उसमे सबसे नम्र है ।”


“आप नम्र तरीके से दुनिया को हिला सकते है ।”


“व्यक्ति की पहचान उसके कपड़ों से नहीं अपितु उसके चरित्र से आंकी जाती है ।”


“समाज में से धर्म को निकाल फेंकने का प्रयत्न बांझ के पुत्र करने जितना ही निष्फल है और अगर कहीं सफल हो जाय तो समाज का उसमे नाश होता है ।”


“हर रात, जब मैं सोने जाता हूँ, मैं मर जाता हूँ। और अगली सुबह, जब मैं उठता हूँ, मेरा पुनर्जन्म होता है ।”


“किसी चीज में यकीन करना और उसे ना जीना बेईमानी है ।”


“मै हिंदी के जरिये प्रांतीय भाषाओं को दबाना नहीं चाहता, किन्तु उनके साथ हिंदी को भी मिला देना चाहता हूं ।”


“पहले वो आप पर ध्यान नहीं देंगे, फिर वो आप पर हँसेंगे, फिर वो आप से लड़ेंगे, और तब आप जीत जायेंगे ।”


“मृत, अनाथ, और बेघर को इससे क्या फर्क पड़ता है कि यह तबाही सर्वाधिकार या फिर स्वतंत्रता या लोकतंत्र के पवित्र नाम पर लायी जाती है?”


“काम की अधिकता नहीं, अनियमितता आदमी को मार डालती है ।”


“कुरीति के अधीन होना कायरता है, उसका विरोध करना पुरुषार्थ है ।”


“अपने से हो सके, वह काम दूसरे से न कराना ।”


“जो लोग अपनी प्रशंसा के भूखे होते हैं, वे साबित करते हैं कि उनमें योग्यता नहीं है ।”


“हंसी मन की गांठें बड़ी आसानी से खोल देती है ।”