Life Status in Hindi

अमीर की बेटी पार्लर में जितना दे आती है, उतने में गरीब की बेटी अपने ससुराल चली जाती है…


कल एक इन्सान रोटी मांगकर ले गया और करोड़ों कि दुआयें दे गया, पता ही नहीँ चला की, गरीब वो था की मैं…


दीदार की तलब हो तो नजरें जमाये रखना… क्यों कि ‘नकाब’ हो या ‘नसीब’ सरकता जरूर है…


गठरी बाँध बैठा है अनाड़ी, साथ जो ले जाना था वो कमाया ही नहीं


मैं उस किस्मत का सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ, वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए…


जिस घाव से खून नहीं निकलता, समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है…


बचपन भी कमाल का था खेलते – खेलते चाहें छत पर सोयें या ज़मीन पर, आँख बिस्तर पर ही खुलती थी…


हर नई चीज अच्छी होती है लेकिन दोस्त पुराने ही अच्छे होते है…


ए मुसीबत जरा सोच के आ मेरे करीब कही मेरी माँ की दुवा तेरे लिए मुसीबत ना बन जाये…


ज़िंदगी भी विडियो गेम सी हो गयी है, साला एक लैवल क्रॉस करो तो अगला लैवल और मुश्किल आ जाता हैं…


कोई उसे खुश करने के बहाने ढूंड रहा था, मैने कहा- उसे मेरे मरने की खबर सुना दे.


किस बात पर मिजाज बदला बदला सा है.. शिकायत है हमसे.. या ये असर किसी और का है.


रहता तो नशा तेरी यादों का ही है, कोई पूछे तो कह देता हुँ पी रखी है.


काश कि वो लौट आयें मुझसे यह कहने, कि तुम कौन होते हो मुझसे बिछड़ने वाले.