1000+ Happy Gandhi Jayanti Wishes in English | Hindi

Gandhi Jayanti Wishes in Hindi & English

आप आज जो करते हैं उसपर भविष्य निर्भर करता है – महात्मा गाँधी ||


The future depends on what you do today.


आप मानवता में विश्वास मत खोइए. मानवता सागर की तरह है; अगर सागर की कुछ बूँदें गन्दी हैं, तो सागर गन्दा नहीं हो जाता – महात्मा गाँधी ||


You must not lose faith in humanity. Humanity is like an…


एक देश की महानता और नैतिक प्रगति को इस बात से आँका जा सकता है कि वहां जानवरों से कैसे व्यवहार किया जाता है – महात्मा गाँधी ||


The greatness of a nation and its moral progress can be…


आपकी मान्यताएं आपके विचार बन जाते हैं, आपके विचार आपके शब्द बन जाते हैं,आपके शब्द आपके कार्य बन जाते हैं, आपके कार्य आपकी आदत बन जाते हैं, आपकी आदतें आपके मूल्य बन जाते हैं, आपके मूल्य आपकी नीयति बन जाती…


एक कृत्य द्वारा किसी एक दिल को ख़ुशी देना, प्रार्थना में झुके हज़ार सिरों से बेहतर है –


स्वयं को जानने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है स्वयं को औरों की सेवा में डुबो देना – महात्मा गाँधी ||


मेरी अनुमति के बिना कोई भी मुझे ठेस नहीं पहुंचा सकता महात्मा गाँधी ||


मैं किसी को भी गंदे पाँव अपने मन से नहीं गुजरने दूंगा –


प्रार्थना माँगना नहीं है. यह आत्मा की लालसा है. यह हर रोज अपनी कमजोरियों की स्वीकारोक्ति है. प्रार्थना में बिना वचनों के मन लगाना, वचन होते हुए मन ना लगाने से बेहतर है – महात्मा गाँधी ||


भगवान का कोई धर्म नहीं है – महात्मा गाँधी


सात घनघोर पाप: काम के बिना धन; अंतरात्मा के बिना सुख; मानवता के बिना विज्ञान; चरित्र के बिना ज्ञान; सिद्धांत के बिना राजनीति; नैतिकता के बिना व्यापार; त्याग के बिना पूजा – महात्मा गाँधी


जब मैं निराश होता हूँ, मैं याद कर लेता हूँ कि समस्त इतिहास के दौरान सत्य और प्रेम के मार्ग की ही हमेशा विजय होती है. कितने ही तानाशाह और हत्यारे हुए हैं, और कुछ समय के लिए वो अजेय…


ऐसे जियो जैसे कि तुम कल मरने वाले हो । ऐसे सीखो की तुम हमेशा के लिए जीने वाले हो । – महात्मा गाँधी


मेरा जीवन मेरा सन्देश है । – महात्मा गाँधी


सत्य बिना जन समर्थन के भी खड़ा रहता है । वह आत्मनिर्भर है । – महात्मा गाँधी


मेरा धर्म सत्य और अहिंसा पर आधारित है । सत्य मेरा भगवान है, अहिंसा उसे पाने का साधन । – महात्मा गाँधी ||


मैं मरने के लिए तैयार हूँ, पर ऐसी कोई वज़ह नहीं है जिसके लिए मैं मारने को तैयार हूँ । –


गर्व लक्ष्य को पाने के लिए किये गए प्रयत्न में निहित है, ना कि उसे पाने में । – महात्मा गाँधी


कोई त्रुटी तर्कवितर्क करने से सत्य नहीं बन सकती और ना ही कोई सत्य इसलिए त्रुटी नहीं बन सकता है क्योंकि कोई उसे देख नहीं रहा । – महात्मा गाँधी


यद्यपि आप अल्पमत में हों, पर सच तो सच है । – महात्मा गाँधी


अपनी गलती को स्वीकारना झाड़ू लगाने के सामान है जो सतह को चमकदार और साफ़ कर देती है । – महात्मा गाँधी

You May Also Like