Ghamand & Guroor Shayari

Tum Zindagi mein aa gaye ho to ye khyal rakhna, Hum ‘Jaan’ de dete hai par ‘Jaane’ nahi dete.


Badey Badey Ashiq mere Status ko dekh kar Salaam thoktey hai.


हमारी रगों में वो खून दोड़ता है, जिसकी एक बूंद अगर तेजाब पर गिर जाये तो तेजाब जल जाये.


Beshak Hamari Gang choti hai… Par sadasya usme Sarey Sultaan Mirza jaise rakhte hai.


राज तो हमारा हर जगह पे है…। पसंद करने वालों के “दिल” में और नापसंद करने वालों के “दिमाग” में.


Aaj bhi log hamari itni ijat karte hain, Ham jise message karte hain, Wo sar jukar kar padhte hain.


हथियार तो सिर्फ शौक के लिए रखा करते है, वरना किसी के मन में खौंफ पैदा करने के लिए तो बस हमारा नाम ही काफी है.


Bas kanth hi hamara nila nahi hain warna, jahar to hamne bhi kam nahi piya.


लोगो से कह दो हमारी तकदीर से जलना छोड़ दे, हम घर से दवा नही माँ की दुआ लेकर निकलते है.


Beshak Hamari Gang choti hai… Par sadasya usme Sarey Sultaan Mirza jaise rakhte hai.


Pasand aaya to Dil me rakhta hu, Nahi to to Dimag me bhi nahi.


मुझे घमंड था की मेरे चाहने वाले बहुत है इस दुनिया में, बाद में पता चला की सब चाहते है अपनी ज़रूरत के लिए.


Bikne wale bahot hai, Jao Kharid lo, Par hum ‘Kimat’ se nahi ‘Kisamat’ se mila karte hai.


राज तो हमारा हर जगह पे है पसंद करने वालों के “दिल” मेंऔर नापसंद करने वालों के “दिमाग” में.


Tu Mohabbat hai meri isliye mujse dur hai, Zid hoti to tu shaam tak meri bahon mein hoti.