1000+ Very {Emotional Status} in Hindi for Love & Friends

Emotional Status in Hindi

बेशक तू बदल ले अपने आपको लेकिन ये याद रखना.. तेरे हर झूठ को सच मेरे सिवा कोई नही समझ सकता…!


आज हम हैं, कल हमारी यादें होंगी. जब हम ना होंगे, तब हमारी बातें होंगी. कभी पलटो गे जिंदगी के ये पन्ने, तो शायद आप की आँखों से भी बरसातें होंगी


मेहनत कितनी भी कर लो, किस्मत अगर कमीनी है तो जिंदगी साउथ अफ्रीका हो जाती हैं.


युं ही हम दिल को साफ़ रखा करते थे…पता नही था की, ‘किमत चेहरों की होती है’ !


नाकाम मोहबत्त भी बड़े काम की होती है ,दिल मिले ना मिले इलज़ाम जरुर मिल जाता है।।


उसकी जुदाई को लफ़्ज़ों में कैसे बयान करें…वो रहता दिल में…धडकता दर्द में…और बहता अश्क में…!


हमसे भुलाया ही नहीं जाता, एक मुखलिस का प्यार;लोग जिगर वाले हैं, जो रोज नया महबूब बना लेते हैं!”


लम्हों की दौलत से दोनों महरूम रहे ,मुझे चुराना न आया, तुम्हें कमाना न आया


शर्मिंदा करते हो रोज, हाल हमारा पूँछ कर ,हाल हमारा वही है जो तुमने बना रखा है…


मुझे मंजूर थे वक़्त के सब सितम मगर , तुमसे मिलकर बिछड़ जाना, ये सजा ज़रा ज्यादा हो गयी।।


तू मांग तो सही अपनी दुआओ मे बददुआ मेरे लिए मै हंसकर खुदा से आमीन कह दूंगा … !


वो बड़े ताज्जुब से पूछ बैठा मेरे गम की वजह..फिर हल्का सा मुस्कराया, और कहा, मोहब्बत की थी ना… ??


मजा चख लेने दो उसे गेरो की मोहबत का भी, इतनी चाहत के बाद जो मेरा न हुआ वो ओरो का क्या होगा।


एक याद है तेरी जो सम्भाली नहीं जाती,एक क़र्ज़ लिया जो अदा हो नहीं सकता.


बिछड़ने वाले तेरे लिए, एक “मशवरा” है..कभी हमारा “ख्याल” आए, तो अपना ‘ख्याल’ रखना!


मैं क्यूँ कुछ सोच कर दिल छोटा करूँ…वो उतनी ही कर सकी वफ़ा जितनी उसकी औकात थी…


एक ग़ज़ल तेरे लिए ज़रूर लिखूंगा;बे-हिसाब उस में तेरा कसूर लिखूंगा;टूट गए बचपन के तेरे सारे खिलौने;अब दिलों से खेलना तेरा दस्तूर लिखूंगा।


अब नींद से कहो हम से सुलह कर ले फ़राज़ वो दौर चला गया जिसके लिए हम जागा करते थेबैठ के तन्हाई में जब जब तुझे पुकारा हैं. तब दिल में याद, आँख में आंसू और खुद को तनहा ही पाया हैं.


उसने कहा था आँख भरके देखा करो, अब आँख भर आती हैं पर वो नज़र नहीं आती!


अब नींदसे कोई वास्ता नहीं! मेरा कौन हैं, ये सोच सोच के रात गुज़र जाती हैं!


इ सितमगर, कदर किया होती हैं तुजे वक़्क़त बताएगा!


साँसोका टूटजाना तो आमबात हैं, जहा अपने बदलजाये मोत तो तब आती हैं!


आज लगता हैं सारा जाहा वीराना हमको – जैसे चमन में फूल खिल न बंद हो गए

You May Also Like