Dhoka Shayari in Hindi

Dhoka Shayari in Hindi: There are numerous people who are searching Dhoka Shayari in Hindi for love, Girlfriend, Boyfriend, Friend. Because they are sad because of their partner. So that time it require Dhoka Shayari for love in Hindi and Dhoka Shayari in Hindi for Girlfriend and Friends to post on Facebook or uploading sad dhoka shayari on whatsapp status. Nonetheless one can’t include to overlook the drive of dosti me dhoka shayari in Hindi to post on Facebook you write about the Best Dhoka Shayari in 2 lines or 140 Character Dhoka Shayari for boyfriend or girlfriend to show your real feelings. Listed below are some Sad Dhoka Shayari for GF/BF, Husband/Wife, Friends and Girlfriend. Share it to one whom you care most. Dhoka Shayari in Hindi language with determined by just about every mood and even concept. This Emotional Sad Dhoka Shayari for love is the place for especially on lover just like Sad Bewafa Dhoka Shayari.

Dhoka Shayari in Hindi

dosti mein dhoka shayari dhoka shayari hindi 140 dhoka shayari in english dosti mein dhoka shayari dhoka shayari in hindi 140 dosti me dhoka shayari in hindi dhoka shayari in hindi font dhoka shayari in hindi facebook

Two Line Dhoka Shayari for Girlfriend

तारीफ़ वो धोखा है जिसे हम बहुत ध्यान से सुनते है.


जो दिखाई देता है वो हमेशा सच नहीं होता, कहीं “धोखे में आँखे है” तो कहीं आँखों में धोखा है.


उन्होंने हमें आजमाकर देख लिया, इक धोखा हमने भी खा कर देख लिया. क्या हुआ हम हुए जो उदास, उन्होंने तो अपना दिल बहला के देख लिया.


कुछ लोग इतने गरीब होते है की, देने के लिए कुछ नहीं होता तो धोखा दे देते है.


One Line Dhoka Shayari for Whatsapp

इन्सान कम थे क्या जो अब मोसम भी धोखा देने लगे.


आपकी आँखे अक्सर वही लोग खोलते है जिनपर आप आँखे बंद करके विश्वाश करते है.


पल पल उसका साथ निभाते हम एक इशारे पे दुनिया छोड़ जाते हम समुन्द्र के बीच में पहुच कर फरेब किया उसनेवो कहता तो किनारे पर ही डूब जाते हम.


टुटा हो दिल तो दुःख होता है करके मोहब्बत किसी से ये दिल रोता है दर्द का अहसास तो तब हो और उसके दिल में कोई और होता है.


Sad Emotional Dhoka Shayari for Love

दीवानगी का सितम तो देखो कि धोखा मिलने के बाद भी चाहते है हम उनको.


मुझ पर हक तुमने उस दिन खो दिया था जिस दिन तुमने मुझे धोखा दिया था.


आशिकी की हद तो देखो धोखा मिलने के बावजूद भी हम उनपे मरते हैं.


सच्चा इश्क किया था तो अब, हम भी बेवफाई के गीत गायेंगे बेवफाई में तेरा नाम न उठे इसलिए हम आसू लेकर हर शहर मुकुरायेंगे.


Two Line Sad Dhoka Shayari in Hindi Fonts

उनकी कमी से दिल मेरा उदास है, पर मुझे तो आज भी उनके मिलने की आस है, ज़ख़्म नही पर दर्द का एहसास है, ऐसा लगता है दिल का एक टुकड़ा आज भी उनके पास है.


पता नहीं कैसे धोखा खाकर भी, हम जिंदा हैं पर तुझसे इश्क करके हम बहुत शर्मिंदा हैं.


कितने मकसदो के साथ जी रहे थे हम उस बेवफा ने धोखा क्या दिया मेरी Life का हर मकसद हमसे छीन लिया.


मैं मतलबी नहीं जो तुम्हे धोखा दे दू बस इतना समझ लेना मैं तुम्हे समझ नहीं पाया.


Dosti mein Dhoka Shayari

जो जले थे हमारे लिऐ बुझ रहे है वो सारे दिये, कुछ अंधेरों की थी साजिशें कुछ उजालों ने धोखे दिये.


Tumse Kya Shikwa E Dost Bewafai Ka Jab Mujhse Mera Nasib Hi Rooth Gya Sach To Ye H Dost Mai To Wo Khilona Hu Jo Badnasib Khel Hi Khel Me Tut Gya.


मैं उसका सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ दोस्तों.. वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए.


mere halaat par muskurate ho, Baddua hAI tujHe ishq ho jaAye.


Dhoka Shayari for Boyfriend and Girlfriend

मेरी यारी का उसने अच्छा परिणाम दिया, मेरी मुशीबत मे उसने मुझको ही भुला दिया.


बहुत अभीमान था मुझे हमसे चाहत रखने वालों से मैं अच्छा था मगर जरूरतों के लिए.


वह कहती है कि मजबूरियां थी बहुत, साफ लफ्जो में खुद को धोखेबाज नहीं कहती.


अबोध बच्चें का चेहरा ईश्वर का रूप होता है पर किसी युवा की मासूमियत से सावधान रहे अक्सर मासुम चेहरे वाले ही धोखेबाज होते है.


2 Line Dhoka Shayari for Love

उनकी कमी से दिल मेरा उदास है, पर मुझे तो आज भी उनके मिलने की आस है, ज़ख़्म नही पर दर्द का एहसास है, ऐसा लगता है दिल का एक टुकड़ा आज भी उनके पास है.


सुना है वो जाते हुए कह गये, के अब तो हम सिर्फ़ तुम्हारे ख्वाबो मे आएँगे, कोई कह दे उनसे के वो वादा कर ले, हम जिंदगी भर के लिए सो जाएँगे.


Related Posts:


किस ने वफ़ा के नाम पे धोखा दिया मुझे किस से कहूँ कि मेरा गुनहगार कौन है  नजीब.


ज़ख़्म लगा कर उस का भी कुछ हाथ खुला मैं भी धोखा खा कर कुछ चालाक हुआ  ज़ेब ग़ौरी.