Desh Bhakti Shayari in Hindi

Halki si dhup barsat k baad, thori si khushi hr baat k baad, Isi tarh mubark ho ap ko, Azadi ki harr raat aj k baad Wish u a very happy independence day.


दिल से मर कर भी ना निकलेगी वतन की उल्फ़त, मेरे मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी.


Kuchh nasha Tirange ki aaan ka hain, Kuch nasha Matrbhumi ki shaan ka hai Hum lahrayenge har jagah ye Tiranga Nasha ye Hindustan ki shaan ka hain Jai Bharat Happy Independence Day.


लहराएगा तिरंगा अब सारे आस्मां पर, भारत का नाम होगा सब की जुबान पर, ले लेंगे उसकी जान या दे देंगे अपनी जान, कोई जो उठाएगा आँख हमारे हिंदुस्तान पर.


Ishq toh karta hain har koyi Mehboob pe marta hain har koyi, Kbhi watan ko mehbub bna kr deko Tujh pe marega har koyi.


आज़ादी का जोश कभी कम ना होने देंगे, जब भी ज़रूरत पड़ेगी देश के लिए जान लुटा देंगे. क्योंकि भारत हमारा देश है, अब दोबारा इस पर कोई आंच ना आने देंगे.


Naa poochho jamaney ko, Kya hamari kahani hain, Hamari pehchaan to sirf ye hai Ki hum sirf hindustani hain.


तिरंगा हमारा हैं शान-ए-ज़िन्दगी, वतन परस्ती हैं वफ़ा-ए-ज़मी, देश के लिए मर मिटना कबूल हैं हमे, अखण्ड भारत के स्वप्न का जूनून हैं हमे.


Na maro sanam bewafa ke leeye, Do gaz jameen nhi milegi dafan hone k liye, Marna hain toh maro vatan ke liye, Hasina b duppta utar degi tere kafan ke liye.Vande Mataram, Jai Hind.


है नमन उनको कि जो यशकाय को अमरत्व देकर, इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं, है नमन उनको जिनके सामने बौना हिमालय, जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गये हैं.


Tiranga Hai Aan Meri, Tiranga Hi Hai Shaan Meri, Tiranga Rahe Ooncha Sada Hamaara, Tirange Se Hai Dharti Mahaan Meri.


Watan hamara misaal mohabat ki, Todta hai deewaar nafrat ki, Meri Khush naseebi, mili zindagi is chaman mein Bhula na sake koi iski khushbo saton janam mein.


ना जियो घर्म के नाम पर, ना मरों धर्म के नाम पर, इंसानियत ही है धर्म वतन का बस जियों वतन के नाम.


uss mulk ko koi chu bhi nahi sakta jis desh ki sarhad hai yeh nigahe.