Desh Bhakti Shayari in Hindi

Desh Bhakti Shayari in Hindi for Facebook & Whatsapp

Desh Bhakti Shayari:  Express Desh Bhakt Shayari for Soldiers and our lovely army. 15 August is a day where most of people are searching Shayari on 15 August in Hindi, hindi shayari on desh bhakti, shero shayari on desh bhakti. We have Written Some Heart Touching Shero Shayari on Desh Bhakti for Bhagat Sing and Our Army and Soldiers who are protecting our Bharat Country 24/7.  I have all those Desh Shayari for 15 August in Hindi fonts and English Fonts. Share our 15 August shayari on Desh Prem on your Facebook and Whatsapp. you may like this best patriotic Shayari on Desh Bhakti among friends and family in which those consider temporarily and clear up the corruption and stand up against corruption. Our soldiers die for our country to help it to safe and provided individuals are creating the entire dream down for couple of money. I truly Respect our Soldiers and Army. Share our websites if you find this Desh Bhakti Shero Shayari heart touching and also Like us on facebook page.

desh bhakti shayari in hindi font desh bhakti shayari bhagat singh desh bhakti shayari

Two Line Desh Prem Shayari in Hindi Fonts

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई , मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता , नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई , मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता.


भारतमाता के लिए मर मिटना कबूल है मुझे,अखंड भारत बनाने का जूनून है मुझे.


मैं भारत बरस का हरदम सम्मान करता हूँ, यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हुँ, मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की, तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ.


यहीं रहूँगा कहीं उम्र भर न जाउँगा, ज़मीन माँ है इसे छोड़ कर न जाऊँगा.


Short Desh Bhakti Shayari for Whatsapp

फिर उड़ गई नींद मेरी यह सोचकर, कि जो शहीदों का बहा वो खून मेरी नींद के लिए था.


गूँजे कहीं पर शंख, कही पे अजाँ हैं, बाइबिल है, ग्रन्थ साहब है, गीता का ज्ञान हैं, दुनिया में खी और यह मंजर नसीब नही, दिखाओ जमाने को यह हिन्दुस्तान हैं.


मैं जला हुआ राख नही, अमर दीप हूँ, जो मिट गया वतन पर, मैं वो शहीद हूँ.


दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगें, आजाद हैं और आजाद ही रहेंगें.


Two Line Heart Touching Desh Bhakti Shayari

लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है, उछ्ल रहा है ज़माने में नाम-ए-आज़ादी.


दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की नफरत, मेरी मिटटी से भी खुशबू-ए-वफ़ा आयेगी.


भारतमाता तुम्हें पुकारे आना ही होगा, कर्ज अपने देश का चुकाना ही होगा, दे करके कुर्बानी अपनी जान की, तुम्हे मरना भी होगा मारना भी होगा.


मैं अपने देश का हरदम सम्मान करता हूँ, यहाँ की मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ, मुझे डर नहीं है अपनी मौत से,तिरंगा बने कफ़न मेरा, यही अरमान रखता हूँ.


Desh Bhakti Lines for Bhagat Singh 

Chalo Fir Se Khud Ko Jagate Hai, Anusasan Ka Danda Fir Ghumate Hai, Sunhara Rang Hai Gantantra Ka Sahido Ke Lahoo Se, Aise Sahido Ko Ham Sab Sar Jhukate Hai.


Alag hai bhasha, dharm, jaat Aur praant, bhesh, parivesh Par hum sabka ek hai gaurav Rashtradhwaj Tiranga shreshtha.


ये बात हवाओं को बताये रखना, रौशनी होगी बस चिरागों को जलाये रखना, लहू देकर जिसकी हिफाज़त हमने की, ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना.


unke hawsle ka bhugtaan kya karega koi unki shahadat ka karj desh pr udhar hai aap aur ham is liye khushhaal hain Qki seema pe sainik shahadat ko taiyar hai.


Desh Bhakti Shayari in Hindi Font

मझहब नही सीखाता आपस मे बैर रखना हिन्दी हैं हम वतन है हिन्दोस्तान हमारा.


शम्मा-ए-वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो, होठों पर गंगा हो और हाथों में तिरंगा हो.


मैं चैन ओ अमन पसंद करता हूँ, मेरे देश में दंगा रहने दो लाल हरे में मत बांटो, मेरी छत पे तिरंगा रहने दो.


हम आजादी तभी पाते हैं जब अपने जीवित रहने के अधिकार का पूरा मूल्य चुका देते हैं.


Desh Bhakti Shayari in Hindi Language

मैं भारत बरस का हरदम अमित सम्मान करता हूँ यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ, मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की, तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ.


Aajadi ki kabhi shaam nahi hone denge, Sahidon ki kurbani badnaam nahi hone denge, Bachi ho jo ek bund bhi garam lahu ki… Tab tak bharat ka aanchal nilaam nahi hane denge.


Waqt aa gaya hai ab duniya ko saaf-saaf kehna hoga, Desh prem ki prabal dhaar mein har man ko behna hoga, Jise tiranga lage paraya, mera desh chhod jaaye, Hindustan mein Hindustani bankar hi rehna hoga.


Watan hamara aise na chhor paaye koi, Rishta hamara aise na tod paaye koi, Dil hamare ek hai ek hai hamari jaan, Hindustan hamara hai hm hai iski shaan.


2 Line Desh Bhakt Shayari for 15 August

फांसी चढ़ गए और सीने पर गोली खाई, हम उन शहीदों को प्रणाम करते हैं, जो मिट गए देश पर, हम उनको सलाम करते हैं  स्‍वतंत्रता दिवस मुबारक हो.


मरने के बाद भी जिसके नाम मे जान हैं,ऐसे जाबाज़ सैनिक हमारे भारत की शान है.


Related Shayari you May Like:


दे सलामी इस तिरंगे को, जिस से तेरी शान हैं, सिर हमेशा ऊंचा रखना इसका जब तक दिल में जान है जय हिंद.


यह बात हवाओं को भी बताए रखना, रोशनी होगी चिरागों को जलाए रखना, लहू देकर जिसकी हिफाजत हमने की, ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाए रखना. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.