Dard Shayari in Hindi

Zindagi Se Apna Har Dard Chhupa Lena, Khusi Na Sahi Gham Gale Laga Lena, Koi Kahe Assan Hai Mohabbat, To Use Mera Toota Hua Dil Dikha Dena.


लोग कहते है हम मुस्कुराते बहुत है, और हम थक गए दर्द छुपाते छुपाते.


मेरी हर शायरी दिल के दर्द को करेगी बयाँ, तुम्हारी आँख ना भर आयें कहीं पढ़ते पढ़ते.


दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता, रोता है दिल जब वो पास नहीं होता, बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में, और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता.


ना किया कर अपने दर्द को शायरी में बयान ऐ दिल, कुछ लोग टूट जाते हैं इसे अपनी दास्तान समझकर.


मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी किसी और दुनिया में, इधर तो हम पर जो गुज़री है हम ही जानते हैं.


ना कर तू इतनी कोशिशे, मेरे दर्द को समझने की, पहले इश्क़ कर, फिर ज़ख्म खा, फिर लिख दवा मेरे दर्द की.


अब तो हाथों से लकीरें भी मिटी जाती हैं, उसे खोकर मेरे पास रहा कुछ भी नहीं.


एक नया दर्द मेरे दिल में जगा कर चला गया, कल फिर वो मेरे शहर में आकर चला गया, जिसे ढूंढते रहे हम लोगों की भीड़ में, मुझसे वो अपने आप को छुपा कर चला गया.


एक दो ज़ख्म नहीं जिस्म है सारा छलनी, दर्द बेचारा परेशान है कहाँ से निकले.


अब दर्द उठा है तो गज़ल भी है जरूरी, पहले भी हुआ करता था इस बार बहुत है.


वो तो अपना दर्द रो-रो कर सुनाते रहे, हमारी तन्हाइयों से भी आँख चुराते रहे, हमें ही मिल गया खिताब-ए-बेवफा क्योंकि, हम हर दर्द मुस्कुरा कर छुपाते रहे.


हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम, हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम, अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला, ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम.


तकलीफ ये नहीं कि तुम्हें अज़ीज़ कोई और है, दर्द तब हुआ जब हम नजरंदाज किए गए.


अब तो दामन-ए-दिल छोड़ दो बेकार उमीदों, बहुत दर्द सह लिए मैंने बहुत दिन जी लिया मैंने.


तुझसे पहले भी कई जख्म थे सीने में मगर, अब के वह दर्द है दिल में कि रगें टूटती हैं.