Cool Status in Hindi

मालुम था कुछ नही होगा हासिल लेकिन… वो इश्क ही क्या जिसमें खुद को ना गवायाँ जाए.


मैंने समुन्दर से सीखा है जीने का सलीका, चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना.

मैँने अपना गम आसमान को क्या सुना दिया… शहर के लोगों ने बारीश का मजा ले लिया.


मूंगफली में छिलके और छोरी में नखरे ना होते तो जिंदगी कितनी आसान हो जाती.


में उन ही चीज़ों का शोख़ रखता हु जो मुझे मिलती हे । उन चिंजो का नहीं जिनकी इजाजत मेरे माँ बाप नहीं देते .


मेरा वक्त बदला है… रूतबा नहीं तेरी किस्मत बदली है… औकात नहीं ।


मेरे मरने के बाद मेरी कहानी लिखना, कैसे बर्बाद हुई मेरी जवानी लिखना.


मुझे जॉब करने का कोई सोख नहीं है ये तो मम्मीपापा की जींद है की तेरे लिए छोरी कहा से धुंध के लाएंगे.


रुलाने मे अक्सर उन्हीँ लोगो का हाथ होता है जो हमेशा कहते है कि तुम हँसते हुए अच्छे लगते हो.


वो तो खिलोने वाले की मजबूरी है वरना बच्चो को रोते हुए देखना उसे भी अच्छा नही लगता ।


वो काग़ज़ आज भी फूलों की तरह महकता है.. जिस पर उसने मज़ाक़ में लिखा था ..मुझे तुमसे मोहब्बत है.


शेर खुद अपनी ताकत से राजा केहलाता है, जंगल मे चुनाव नही होते.


अब मैं कोई भी बहाना नहीं सुनने वाला .. तुम मेरा प्यार…. मुझे प्यार से वापस कर दो.


अब किसी और से मोहब्बत कर लूं, तो शिकायत मत करना ये बुरी आदत भी मुझे तुमसे ही लगी है…!


अर्ज़ किया है.. ज़िन्दगी में अगर ग़म न होते.. तो शायरों की गिनती में हम न होते.


अगर कहो तो आज बता दूँ मुझको तुम कैसी लगती हो। मेरी नहीं मगर जाने क्यों, कुछ कुछ अपनी सी लगती हो।


अजीब तमाशा है मिट्टी से बने लोगो का, बेवफाई करो तो रोते है और वफा करो तो रुलाते है ॥


आज टूटा एक तारा देखा, बिलकुल मेरे जैसा था। चाँद को कोई फर्क नहीं पड़ा, बिलकुल तेरे जैसा था।।


इतनी कामीयाबि हाँसिल करूंगा की तु जे माफी मांगने के लिये भी लाईन मेँखडा होना पडेगा.


करेगा जमाना कदर हमारी भी एक दिन देख लेना… बस जरा ये भलाई की बुरी आदत छुट जाने दो.


क़दर किरदार की होती है वरना कद में तो साया भी इंसान से बड़ होता है..


कांटो से बच बच के चलता रहा उम्र भर… क्या खबर थी की चोट एक फूल से लग जायेगी.[/su_note


काश तुम मेरी मौत होते तो, एक दिन जरुर मेरे होते.


क्या किसी से शिकायत करें जब अपनी तक़दीर ही बेवफा है।


क्यों गुरूर करते हो अपने ठाठ पर… मुट्ठी भी खाली रहेगी जब पहुंचोगे घाट पर..