Alone Status in Hindi

“एक रस्म मोहब्बत में बनानी होगी, छोड़ के जाए कोई भी शौक से, मगर वज़ह एक दूसरे को बतानी होगी !”


“बदलते लोग, बदलते रिश्ते और बदलता मौसम, चाहे दिखाई ना दे, मगर ‘महसूस’ जरूर होते हैं.”


“चलती हुयी “कहानियों” के जवाब तो बहुत है मेरे पास साहब लेकिन खत्म हुए “किस्सों” की खामोशी ही बेहतर है |”


“कुछ इस तरह से नाराज हैं वो हमसे, जैसे उन्हें, किसी और ने मना लिया हो !”


“सब छोड़े जा रहे हैं आजकल हमें, ऐ जिन्दगी ! तुझे भी इजाजत है “जा ऐश कर”


“रात भर जागता हूं..एक ऐसे शख्स की यादों में, जिसे दिन के उजाले मेँ भी मेरी याद नही आती !”


“हम बने थे तबाह होने के लिए तेरा छोड़ जाना तो महज़ इक बहाना था !”


“कभी आंसू, कभी सजदे, तो कभी हाथों का उठ जाना, मोहब्बत नकाम हो जाएँ, तो रब बहुत याद आता है |”


“मुद्दतों बाद लौटे हैं तेरे शहर में एक तुझे छोड़ और तो कुछ बदला नहीं |”


“अब कोई और ही मुसीबत हो ये न हो कि फिर मोहब्बत हो |”


“कभी आंसू, कभी सजदे, तो कभी हाथों का उठ जाना, मोहब्बत नकाम हो जाएँ, तो रब बहुत याद आता है |”


“क़ाश कोई ऐसा हो, जो गले लगा कर कहे, तेरे दर्द से मुझे भी तकलीफ होती है…!”


“इश्क करने चला है तो कुछ अदब भी सीख लेना ए दोस्त, इसमें हँसते साथ है पर रोना अकेले ही पड़ता है…!”


“पहले नहीँ पर अब सोचने लगे हैँ हम… जिँदगी के हर लम्हेँ मेँ तेरी जरुरत सी क्योँ लगती है…”


“जयादा लगाव ना रख मुझसे मेरे दुश्मन कहते है, मेरी उम्र छोटी है डर मौत का नहीं तेरे अकेलेपन का है।”


“यूँ तो वजह बहूत हैं मेरे रूठ जाने की मगर…इस ख्याल से चुप हूँ कि मनायेंगा कौन…


“ऐ बादल! मेरी आँखे तुम रख लो… कसम सें बड़ी माहिर हैं बरसने मे…”


“मुझे इतना याद आकर बेचैन ना करो तुम, एक यही सितम काफी है कि साथ नहीं हो तुम…”


“अजीब मेरा अकेलापन है तेरी चाहत भी नहीं और तेरी जरूरत भी है…”


“तन्हा रहना तो सीख लिया हमने, लेकिन खुश कभी ना रह पाएंगे, तेरी दूरी तो फिर भी सह लेता ये दिल, लेकिन तेरी मोहब्बत के बिना ना जी पाएंगे.”


“उसके दिल में थोड़ी सी जगह माँगी थी मुसाफिरों की तरह… उसने तन्हाईयों का एक शहर मेरे नाम कर दिया…”


“किसी को इतना मत चाहो की भुला ना सको,  “ज़िन्दगी इंसान और मोहब्बत” तीनो ही बेवफा हैं |”