75+ Best {Allama Iqbal Shayari} in Hindi

Allama Iqbal Shayari in Hindi

Hai Baja Shewa-e-Tasleem Mein Mash’hoor Hain Hum;
Qissa-e-Dard Sunaate Hain Ke Majboor Hain Hum.
Saaz Khaamosh Hain, Fariyaad Se Maamoor Hain Hum;
Nala Aata Hai Agar Lab Pe Tho Ma’zoor Hain Hum.


तू ने ये क्या ग़ज़ब किया मुझ को भी फ़ाश कर दिया
मैं ही तो एक राज़ था सीना-ए-काएनात में


मिटा दे अपनी हस्ती को अगर कुछ मर्तबा चाहे,
कि दाना ख़ाक में मिलकर गुल-ओ-गुलज़ार बनता है।


असर करे न करे सुन तो ले मिरी फ़रियाद
नहीं है दाद का तालिब ये बंदा-ए-आज़ाद ​


तेरे इश्क़ की इंतिहा चाहता हूँ
मेरी सादगी देख क्या चाहता हूँ


अपने मन में डूब कर पा जा सुराग़-ए-ज़ि़ंदगी
तू अगर मेरा नहीं बनता न बन अपना तो बन


Who bhi din the ke yehi maya-e-raanai tha,
Naazish-e-mausim-e-gul lala-e-sahraai tha!
Jo Musalmaan tha Allah ka saudai tha,
Kabhi mehboob tumhara yehi harjaai tha


Qaafila ho na sakega kabhi weeran tera,
Ghair yak baang-e-dara kuchh nahin samaan tera.


Nakhl-e-shama asti-o-dar should dood resha-e-tu,
Aaqbat soz bood saya-e-andesha-e-tu.


तू शाहीं है परवाज़ है काम तेरा
तिरे सामने आसमाँ और भी हैं


हज़ारों साल नर्गिस अपनी बे-नूरी पे रोती है,
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर पैदा।


तिरे इश्क़ की इंतिहा चाहता हूँ,
मिरी सादगी देख क्या चाहता हूँ।


Is qadar shokh ke Allah se bhi barham hai,
Tha jo masjud-e-malaik yeh wohi Aadam hai?
Aalam-e kaif hai, dana-e-ramuz-e-kam hai,
Haan, magar ijaz ke asrar se namahram hai.


बाग़-ए-बहिश्त से मुझे हुक्म-ए-सफ़र दिया था क्यूँ
कार-ए-जहाँ दराज़ है अब मिरा इंतिज़ार कर


Kuchh jo samjha tau mere shikwe ko Ruzwan samjha,
Mujhe jannat se nikala hua insaan samjha.


Pir-e-gardoon ne kaha sun ke, kahin hai koi!
Bole sayyaare, sar-e-arsh-e-barin hai koi!
Chaand kahta tha, nahin, ahl-e-zamin hai koi!
Kahkashaan kahti thi, poshida yahin hai koi!


दिल से जो बात निकलती है असर रखती है
पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है


जम्हूरियत इक तर्ज़-ए-हुकूमत है कि जिस में,
बंदों को गिना करते हैं तौला नहीं करते।


Jaa ke hote hain masaajid mein saf-aara tau gharib,
Zahmat-e-roza jo karte hain gawara tau gharib.
Naam leta hai agar koi hamara, tau gharib,
Pardah rakhta hao agar koi tumhara, tau gharib.

You May Also Like