75+ Best {Allama Iqbal Shayari} in Hindi

Allama Iqbal Shayari in Hindi

Allama Iqbal Shayari in Hindi


ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले
ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है


हमने तन्हाई को अपना बना रक्खा
राख के ढ़ेर ने शोलो को दबा रक्खा है


Thi farishton ko bhi hairat, ke yeh aawaaz hai kya!
Arsh waalon pe bhi khulta nahin yeh raaz hai kya!
Taa sar-e-arsh bhi insaan ki tag-o-taaz hai kya?
Aa gai khak ki chutki ko bhi parwaaz hai kya?


Naaz hai taaqat-e-guftaar pe insaanon ko,
Baat karne ka saliqa nahin nadaanon ko!


Aai aawaaz ghum-angez hai afsana tira,
Ashk-e-betaab se labrezhai paimana tira.


Ki Mohammed se wafa tu ne tau hum tere hain,
Yeh jahan cheez hai kya, lauh-eo-qalam tere hain.


माना कि तेरी दीद के क़ाबिल नहीं हूँ मैं,
तू मेरा शौक़ देख मिरा इंतिज़ार देख।


दिल की बस्ती अजीब बस्ती है,
लूटने वाले को तरसती है।


अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल
लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे


Baap ka ilm na bete ko agar azbar ho,
Phir pisar qabil-e-miraas-e-pidar kyonkar ho!


उरूज-ए-आदम-ए-ख़ाकी से अंजुम सहमे जाते हैं
कि ये टूटा हुआ तारा मह-ए-कामिल न बन जाए


जिस खेत से दहक़ाँ को मयस्सर नहीं रोज़ी
उस खेत के हर ख़ोशा-ए-गंदुम को जला दो


सितारों से आगे जहाँ और भी हैं
अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं,
तही ज़िंदगी से नहीं ये फ़ज़ाएँ
यहाँ सैकड़ों कारवाँ और भी हैं।


नशा पिला के गिराना तो सब को आता है
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी


Read More Shayari:


Dil se jo baat nikalti hai, asar rakhti hai,
Par nahin, taaqat-e-parwaaz magsr rakhti hai.
Qudsi-ul-asal hai, rif-atpe nazar rakhti hai,
Khaak se uthti hai, gardoon pe guzar rakhti hai


Ishq tha fitna gar-o-sarkash-o-chalaak mira,
Aasman cheer gaya nala-e-bebaak mira.


खुदा तो मिलता है पर इंसान नहीं मिलता,
यह चीज वो है जो देखी कहीं कहीं मैंने।


माना कि तेरी दीद के क़ाबिल नहीं हूँ मैं
तू मेरा शौक़ देख मिरा इंतिज़ार देख


Hum tau mayal ba-karam hai, koi sayal hi nahin,
Rah dikhlain kise rahraw-e-manzil hi nahin.
Tarbiat aam tau hai, jauhar-e-qabil hi nahin,
Jis se taamir ho aadam ki yeh who gil hi nahin.


न पूछो मुझ से लज़्ज़त ख़ानमाँ-बर्बाद रहने की
नशेमन सैकड़ों मैं ने बना कर फूँक डाले हैं

You May Also Like